Kahani Sangrah-Real Story Total Real Story - 8
Download
1009 बार रिजेक्ट हुए: KFC

अमरीका की धावक गेल डेवर्स

इंसान चाहे तो क्या नहीं कर सकता.

अगर इंसान चाहे तो वह पहाड़ को भी हिला कर दिखा सकता है

मंद बुद्धि से महानता तक.

इंसानी जज़बे की सच्ची कहानी

Ghanshyam Das Birla (April 10, 1894 – June 11, 1983)

जिलेट

अमरीका की धावक गेल डेवर्स
 
 
गेल डेवर्स की तस्वीर

गेल डेवर्स

आप में से जिन लोगों को अमरीका की धावक गेल डेवर्स याद हैं उन्हें डेवर्स के लम्बे और सजीले हाथ की उंगलियों के नाखून भी ज़रूर याद होंगे! डेवर्स अपने नाखूनों का बड़ा ख्याल रखती थीं और उन्हें खूब सजाती भी थीं।

गेल डेवर्स ने ओलंपिक में तीन बार गोल्ड मेडल जीते थे। 100 मीटर की फ़र्राटा दौड़ में जैसे आज यूसेन बोल्ट को कोई नहीं पकड़ सकता वैसे ही 1992 और 1996 के ओलंपिक खेलों में डेवर्स ने फ़र्राटा दौड़ जीती थीं। इसके अलावा 1996 में उन्होनें चार गुणा चार सौ मीटर की दौड़ में भी ओलंपिक गोल्ड मेडल जीता था।

डेवर्स उस समय 1988 ओलंपिक खेलों में भाग लेने के लिए स्वयं को प्रशिक्षित कर रहीं थी जब उन्हें मालूम हुआ कि उनका स्वास्थ्य बहुत खराब हो चला था। उन्हें माइग्रेन होने लगा था और देखने में भी दिक्कत आने लगी। उन्होनें 1988 के ओलंपिक में 100 मीटर की बाधा दौड़ के लिए क्वालीफ़ाई किया लेकिन वे सेमी-फ़ाइनल में हार गईं। इसके बाद वे 1992 के ओलंपिक की तैयारी में जुट गईं लेकिन उनका स्वास्थ्य लगातार गिरता जा रहा था। 1990 में पाया गया कि गेल डेवर्स को ग्रेव्स डिज़ीज़ नामक बीमारी है। उन्हें थॉयराइड हर्मोन से संबंधित इलाज भी कराना पड़ा। इस सबके बावज़ूद डेवर्स ने हिम्मत नहीं हारी और 1991 की विश्व चैम्पियनशिप में 100 मीटर की बाधा दौड़ में रजत पदक जीता।

1992 के बार्सीलोना ओलंपिक में डेवर्स ने धूम मचा दी। उन्होनें 100 मीटर फ़र्राटा दौड़ का गोल्ड जीता। यह वही दौड़ थी जिसमें पाँच महिलाओं ने 0.06 सेकेंड के अंतराल के भीतर दौड़ पूरी की थी! इसके बाद डेवर्स अपनी पसंदीदा 100 मीटर बाधा दौड़ के लिए तैयार हुई। उस समय तक किसी भी व्यक्ति ने 100 मीटर फ़र्राटा और 100 मीटर बाधा दौड़ एक साथ कभी नहीं जीती थी और यह माना जा रहा था कि गेल डेवर्स यह कारनामा ज़रूर कर दिखाएंगी। उस समय डेवर्स 100 मीटर की बाधा दौड़ की विश्व चैम्पियन थीं।

लेकिन होनी को कुछ और ही मज़ूंर था। 100 मीटर की बाधा दौड़ शुरु हुई और डेवर्स सब प्रतिद्वंदियों को पीछे छोड़ते हुए तेज़ी से आगे निकल पड़ी। उन्होंने सारी दूरी पार कर ली लेकिन आखिरी बाधा पर से कूदते समय वे लड़खड़ा गई और गिर कर लुढकते हुए समाप्ति रेखा के पार पहुँची। इस दुर्घटना के कारण उन्हें दौड़ में पाँचवां स्थान मिला। गेल डेवर्स एक अविश्वसनीय रिकॉर्ड बनाने से चूक गईं। यदि गेल डेवर्स लड़खड़ाई ना होतीं तो वे 100 मीटर फ़र्राटा और 100 मीटर बाधा दौड़ को एक ही ओलंपिक में जीतने वाली पहली व्यक्ति बन जाती

go go how to get viagra in philippines
black women white men types of women who cheat women who like to cheat
Posted on :8/8/2015 3:07:29 PM
   
  Cute web counter
 
Google Ads