Kahani Sangrah-Matter of Thinking
 
Kahani Sangrah-Matter of Thinking Total Matter of Thinking - 12
Download
Maintain positive attitude in worse condition.

Power Of Network Marketing

jio jindgi san se

समोसे की दुकान

नौकरी की हकीकत

Mirror

कौन ज्यादा कीमती ??

एक आम व्यक्ति के जीवन का सार

मेरी ख्वाइश

पापा, आप एक घंटे में कितना कमा लेते हैं

आप लोगों के लिए एक लकड़ी का कटोरा बना रहा हूँ

जीवन में जब सब कुछ एक साथ और जल्दी-जल्दी करने की इच्छा होती है

पापा, आप एक घंटे में कितना कमा लेते हैं
 
 

एक व्यक्ति ऑफिस में देर रात तक काम करने के बाद थका-हारा घर पहुंचा.दरवाजा खोलते ही उसने देखा कि उसका पांच वर्षीय बेटा सोने की बजाये उसका इंतज़ार कर रहा है. अन्दर घुसते  ही  बेटे ने  पूछापापा ,क्या  मैं  आपसे एक  सवाल पूछ सकता हूँ ?”

 

हाँ-हाँ पूछो, क्या  पूछना है ?” पिता  ने कहा.

 

बेटा - “पापा, आप एक  घंटे  में कितना  कमा लेते हैं ?”

 

इससे तुम्हारा  क्या  लेना देनातुम  ऐसे बेकार  के  सवाल क्यों  कर  रहे हो ?” पिता  ने झुंझलाते  हुए  उत्तर दिया.

 

बेटा - “मैं बस  यूँही जानना चाहता  हूँ. Please  बताइए कि आप एक घंटे में कितना कमाते हैं ?”

 

पिता  ने गुस्से  से  उसकी तरफ  देखते  हुए कहा, “100 रुपये.”

 

अच्छा”,बेटे  ने  मासूमियत  से  सर झुकाते   हुए  कहा, “पापा क्या  आप  मुझे 50 रूपये  उधार  दे सकते  हैं ?”

 

इतना  सुनते ही  वह   व्यक्ति आग  बबूला  हो उठा, “तो  तुम इसीलिए  ये फ़ालतू  का  सवाल कर  रहे  थे ताकि मुझसे  पैसे  लेकर तुम  कोई बेकार  का  खिलौना  या  उटपटांग  चीज खरीद  सकोचुपचाप अपने  कमरे जाओ और सो जाओ. सोचो तुम कितने selfish हो। मैं दिन रात मेहनत करके पैसे कमाता हूँ और तुम उसे बेकार की चीजों में बर्वाद करना चाहते हो

 

यह सुन बेटे  की आँखों  में  आंसू   गए और   वह  अपने कमरे  में चला गया.

 

व्यक्ति  अभी भी  गुस्से  में था  और  सोच रहा  था  कि आखिर  उसके  बेटे कि ऐसा करने कि  हिम्मत कैसे  हुई पर  आधा-एक घंटा   बीतने के  बाद  वह थोडा  शांत  हुआ, और सोचने  लगा  कि हो  सकता  है कि  उसके  बेटे ने  सच में किसी  ज़रूरी  काम के  लिए  पैसे मांगे  हों, क्योंकि आज  से  पहले  उसने  कभी  इस तरह  से  पैसे नहीं  मांगे  थे.

 

फिर  वह उठ  कर  बेटे के  कमरे  में गया  और बोला, “क्या तुम सो रहे  हो ?”, “नहींजवाब आया. “मैं  सोच रहा  था  कि शायद  मैंने  बेकार में  ही  तुम्हे डांट  दिया, दरअसल दिन भर  के काम  से  मैं बहुत थक  गया था.” व्यक्ति  ने कहा.

 

“Iam sorry…. ये लो अपने पचास रूपये.”ऐसा कहते हुए उसने अपने बेटे के हाथ में पचास की नोट रख दी.

 

“ThankYou पापाबेटा ख़ुशी से पैसे लेते हुए कहा, और फिर वह तेजी से उठकर अपनी आलमारी की तरफ गया, वहां से उसने ढेर सारे सिक्के निकाले और धीरे-धीरे उन्हें गिनने लगा.

 

यह  देख व्यक्ति  फिर  से क्रोधित  होने  लगा, “जब तुम्हारे  पास  पहले से  ही  पैसे थे  तो  तुमने  मुझसे  और  पैसे क्यों  मांगे ?”

 

क्योंकि मेरे  पास पैसे कम  थे, पर अब  पूरे  हैंबेटे ने  कहा.

 

पापा अब  मेरे  पास 100 रूपये  हैं. क्या मैं  आपका  एक घंटा  खरीद  सकता हूँ ?  Please आप ये पैसे ले लोजिये और कल घर जल्दी  जाइये,मैं आपके साथ बैठकर खाना खाना चाहता हूँ.”

 

दोस्तोंइस तेज रफ़्तार जीवन में हम कई बार खुद को इतना ब्यस्त कर लेते हैं कि उन लोगो के लिए ही समय नहीं निकाल पाते जो हमारे जीवन में सबसे ज्यादा महत्व (importance) रखते हैं. इसलिए हमें ध्यान रखना होगा कि इस आपा-धापी में भी हम अपने माँ-बाप, जीवन-साथी, बच्चों और अभिन्न मित्रों के लिए समय निकालें, वरना एक दिन हमें भी अहसास होगा कि हमने छोटी-मोटी चीजें पाने के लिए कुछ बहुत बड़ा खो दिया. और सबसे अच्छा होगा यदि पूरी जिंदगी में कमाने वाले पैसे को कम से कम समय में कमा लिया जाये

how women cheat redirect read here
read here read here abortion procedures
reasons why married men cheat open click here
love affairs with married men why do husbands have affairs find an affair
Posted on :11/16/2013 10:36:03 PM
   
  Cute web counter
 
Google Ads