Kahani Sangrah-Matter of Thinking Total Matter of Thinking - 12
Download
Maintain positive attitude in worse condition.

Power Of Network Marketing

jio jindgi san se

समोसे की दुकान

नौकरी की हकीकत

Mirror

कौन ज्यादा कीमती ??

एक आम व्यक्ति के जीवन का सार

मेरी ख्वाइश

पापा, आप एक घंटे में कितना कमा लेते हैं

आप लोगों के लिए एक लकड़ी का कटोरा बना रहा हूँ

जीवन में जब सब कुछ एक साथ और जल्दी-जल्दी करने की इच्छा होती है

आप लोगों के लिए एक लकड़ी का कटोरा बना रहा हूँ
 
 

एक  वृद्ध व्यक्ति अपने  बहुबेटे के  यहाँ  शहर रहने  गया. उम्र के  इस  पड़ाव पर  वह  अत्यंत कमजोर  हो  चुका था, उसके  हाथ कांपते  थे  और दिखाई  भी  कम  देता  थावो एक छोटे से घर में रहते थे, पूरा परिवार और  उसका  चार वर्षीया  पोता  एक साथ  डिनर  टेबल पर  खाना  खाते थे. लेकिन  वृद्ध होने  के  कारण उस  व्यक्ति  को खाने  में बड़ी  दिक्कत  होती थी. कभी  मटर के  दाने  उसकी चम्मच  से  निकल कर  फर्श  पे बिखर  जाते  तो कभी  हाँथ  से दूध  छलक   कर मेजपोश   पर  गिर जाता.

 

बहु-बेटे  एक दो   दिन  ये   सब   सहन  करते   रहे   पर  अब   उन्हें  अपने पिता  की  इस  काम  से  चीढ़ होने  लगी. “हमें इनका  कुछ  करना पड़ेगा”, लड़के  ने कहा, बहु  ने भी  हाँ  में हाँ  मिलाई  और बोली,” आखिर  कब तक  हम इनकी  वजह  से अपने  खाने  का मजा किरकिरा करते रहेंगे, और हम  इस  तरह चीजों  का  नुक्सान होते  हुए  भी नहीं  देख  सकते.”

 

अगले दिन जब  खाने का  वक़्त  हुआ तो  बेटे  ने एक  पुरानी  मेज को  कमरे  के कोने  में  लगा दिया , अब बूढ़े पिता  को वहीँ  अकेले  बैठ कर  अपना  भोजन करना  थायहाँ तक की  उनके खाने  के  बर्तनों  की  जगह  एक लकड़ी  का  कटोरा दे  दिया  गया था, ताकि  अब और  बर्तन  ना टूट-फूट  सकें. बाकी लोग  पहले की तरह ही आराम   से  बैठ  कर  खाते और  जब  कभी कभार  उस बुजुर्ग  की  तरफ  देखते  तो  उनकी आँखों  में  आंसू दिखाई  देते. यह देखकर भी बहु-बेटे का मन नहीं पिघलता,वो  उनकी  छोटी से  छोटी  गलती पर  ढेरों  बातें सुना  देतेवहां बैठा  बालक  भी यह  सब  बड़े ध्यान  से  देखता रहता, और  अपने में  मस्त   रहता.

 

एक  रात खाने  से  पहले ,उस  छोटे  बालक को  उसके  माता-पिता ने  ज़मीन  पर बैठ  कर  कुछ करते  हुए  देखा, "तुम  क्या  बना रहे  हो ?”   पिता ने  पूछा,

 

बच्चे ने मासूमियत के साथ उत्तर दिया, “अरे मैं तो आप लोगों के लिए एक लकड़ी का कटोरा बना रहा हूँ, ताकि जब मैं बड़ा हो जाऊं तो आप लोग इसमें खा सकें.” और वह पुनः अपने काम में लग गया. पर इस बात का उसके माता-पिता पर बहुत गहरा असर हुआ, उनके मुंह से एक भी शब्द नहीं निकला और आँखों से आंसू बहने लगे. वो दोनों बिना बोले ही समझ चुके थे कि अब उन्हें क्या करना है. उस रात वो अपने बूढ़े पिता को  वापस डिनर टेबल पर ले आये, और फिर कभी उनके साथ अभद्र व्यवहार नहीं किया.
click here redirect why most women cheat
Posted on :11/16/2013 10:35:02 PM
   
  Cute web counter
 
Google Ads